Monday 19 February 2024

भारत में परिवार नियोजन पर निबंध Parivar niyojan par nibandh

Parivar niyojan par nibandh

दोस्तों नमस्कार, आज हम आपके लिए लाए हैं परिवार नियोजन पर हमारे द्वारा लिखित यह आर्टिकल आप इसे जरूर पढ़ें तो चलिए पढ़ते हैं परिवार नियोजन पर हमारे द्वारा लिखित इस निबंध को

Parivar niyojan par nibandh

प्रस्तावना- परिवार नियोजन आज के समय में काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है और विशेषकर भारत जैसे देश में जहां जनसंख्या काफी बढ़ रही है हमारे देश में तो परिवार नियोजन काफी ज्यादा महत्व रखता है। परिवार नियोजन के लिए हमें विभिन्न उपाय अपनाना चाहिए और आगे बढ़ना चाहिए

भारत में परिवार नियोजन आवश्यक क्यों है या इसका महत्व- भारत जैसे देश में जहां कई कारण हमें देखने को मिलते हैं जिनकी वजह से भारत में परिवार नियोजन काफी ज्यादा महत्व रखता है, जिन्हें हम निम्नलिखित बिंदुओं में जानेंगे 

जनसंख्या वृद्धि भारत देश में काफी ज्यादा जनसंख्या है। एक सर्वे के अनुसार भारत दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश है। भारत देश में 125 करोड़ से भी ज्यादा जनसंख्या है और यदि हाल ही में जनसंख्या का सर्वे किया जाए तो यह जनसंख्या और भी ज्यादा होगी। 

जनसंख्या को नियंत्रित करना काफी ज्यादा जरूरी है इसीलिए परिवार नियोजन की आवश्यकता है 

आर्थिक स्थिति किसी भी देश की जनसंख्या की आर्थिक स्थिति तभी ठीक रह सकती है जब देशवासियों को अच्छा रोजगार मिले लेकिन भारत जैसे देश में जहां काफी ज्यादा जनसंख्या है और जनसंख्या दिन प्रतिदिन बढ़ ही रही है और भारत देश में कई सारे लोग बेरोजगार हैं जिस वजह से आर्थिक स्थिति परिवार में बनी रहती है और इसका भारत की आर्थिक स्थिति पर भी प्रभाव पड़ता है इसलिए जरूरी है कि हम परिवार नियोजन के महत्व को समझें।

परिवार नियोजन की शुरुआत कब हुई थी? parivar niyojan karyakram- भारत में जनसंख्या को बढ़ती हुई देखकर 1952 में विश्व का पहला एक ऐसा कार्यक्रम चलाया गया जिसका उद्देश्य था परिवार नियोजन पर जोर देना। इस कार्यक्रम के जरिए परिवार नियोजन की ओर लोगों को जागरूक किया गया जिससे जनसंख्या नियंत्रित हो सके वास्तव में इस परिवार नियोजन की शुरुआत बहुत ही अच्छी हुई और धीरे-धीरे परिवार नियोजन के नए-नए साधन अपनाए जाने लगे और लोग जागरूक होने लगे।

परिवार नियोजन के साधन कौन कौन से हैं? परिवार नियोजन के मुख्य रूप से दो साधन हैं स्थाई और अस्थाई। परिवार नियोजन के स्थाई साधनों में पुरुष नसबंदी एवं महिला बंध्याकरण है एवं अस्थाई साधनों में कंडोम का इस्तेमाल करना है इससे आप परिवार नियोजन के साथ में कई यौन संक्रामक रोगों से बच सकते हैं इसके अलावा आप गर्भनिरोधक गोलियों का उपयोग कर सकते हैं।

Saturday 17 February 2024

सड़क सुरक्षा एवं यातायात के नियम पर निबंध Sadak suraksha aur yatayat ke niyam par nibandh

Sadak suraksha aur yatayat ke niyam par nibandh

दोस्तों नमस्कार, कैसे हैं आप सभी आज हम आपके लिए लाए हैं सड़क सुरक्षा पर हमारे द्वारा लिखित यह आर्टिकल इस आर्टिकल में हम सड़क सुरक्षा के साथ यातायात के नियम भी जानेंगे तो चलिए पढ़ते हैं आज के हमारे इस आर्टिकल को

प्रस्तावना सड़क सुरक्षा आज के समय में काफी जरूरी है क्योंकि आज के समय में हम देख रहे हैं कि सड़क दुर्घटनाएं काफी हो रहीं हैं। सड़क सुरक्षा के लिए हमें कई नियमों का पालन करना चाहिए, यातायात के नियमों को सही तरह से पालन करके हम सड़क सुरक्षा कर सकते हैं और अपने जीवन को बचा सकते हैं।

सड़क सुरक्षा सड़क दुर्घटना से बचने के लिए सड़क सुरक्षा के कई सारे उपाय करके हम सड़क दुर्घटना से बच सकते हैं और सड़क सुरक्षा कर सकते हैं। सड़क दुर्घटना होने से बचाव ही सड़क सुरक्षा है। 

आज के समय में मनुष्य बिना किसी परवाह किए वाहनों को तेजी से अनियंत्रित चलाता है जिस वजह से दुर्घटनाएं होती हैं। मनुष्य को हर समय जल्दी रहती है, जल्दी में वह अपने जीवन को भी जल्दी नष्ट कर देता है। सड़क सुरक्षा के लिए हमें चाहिए कि हम यातायात के नियमों को समझें और उनका पूरी तरह से पालन करें तभी सड़क सुरक्षा हो सकती है और हम अपने इस अनमोल जीवन को बचा सकते हैं।

यातायात के नियम 

गाड़ी को ओवरटेक करने से बचें कई बार ऐसा होता है कि हमको कहीं पर जल्दी जाना होता है और हम ध्यान नहीं देते जहां पर ओवरटेक नहीं करना चाहिए वहीं पर हम जल्दबाजी में ओवरटेक कर लेते हैं और दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं इसलिए ओवरटेक से जहां तक हो बचे।

हेलमेट का उपयोग करें हेलमेट से हमारे जीवन की सुरक्षा होती है दरअसल मोटरसाइकिल चलाते समय आज के समय में कई लोग हेलमेट नहीं लगाते। दरअसल सिर में चोट लगने से जल्दी मौत हो जाती है इसलिए सभी को हेलमेट लगाना चाहिए। हेलमेट हमारी सुरक्षा के लिए काफी महत्वपूर्ण है इसलिए हमेशा मोटरसाइकिल चलाते समय हेलमेट जरूर लगाए।

सीट बेल्ट का उपयोग करें कोई सा वाहन चलाते समय सीट बेल्ट का भी उपयोग जरूर करें। सीट बेल्ट का उपयोग करने से आपकी सुरक्षा होती है, आप दुर्घटना में बड़ी हानि से बच सकते हो। दरहसल सीट न लगाने की वजह से आप एक्सीडेंट के समय एकदम से आगे आ सकते हो जिस वजह से दुर्घटना में आपकी जान जा सकती है वही सीट लगाने से आप दुर्घटना के शिकार होने से बच सकते हो।

सही गति में वाहन चलाएं आज के समय में कई लोग ऐसे होते हैं जो काफी तेजी से वाहन चलाते हैं जिस वजह से दुर्घटनाएं होती रहती हैं। हमें वाहन हमेशा नियंत्रण में रखना चाहिए, जल्दबाजी में कभी भी वाहन को तेजी से नहीं चलाना चाहिए इससे दुर्घटना हो सकती है। होरन का उपयोग करें और सिर्फ जरूरी होने पर ही बजाए, कई लोग ऐसे होते हैं जो होरन का उपयोग ही नहीं करते और तेज गति से चले जाते हैं। हमें जरूरत पड़ने पर होरन बजाना चाहिए और यह भी ध्यान रखना चाहिए कि बिना बजह हर समय होरन नहीं बजाना चाहिए इससे ध्वनि प्रदूषण होता है और कई लोगों को समस्या का सामना करना पड़ता है।

ट्रैफिक सिग्नल का पालन करना चाहिए ट्रैफिक सिग्नल के पालन करने से एक तरह से हम सुरक्षित रहते हैं इसलिए ट्रैफिक सिग्नल का पालन करना चाहिए। शराब पीकर गाड़ी ना चलायें शराब पीकर गाड़ी बिल्कुल नहीं चलाना चाहिए इससे दुर्घटना होने के चांस काफी बढ़ जाते हैं।

सही दिशा में वाहन चलाए आपको सही दिशा में वाहन चलाना चाहिए, कई बार कई लोग रॉन्ग साइड में वाहन चलाते हैं जिससे दुर्घटना के शिकार हो जाते हैं। दरअसल सामने आने वाला वाहन चालक गलत दिशा में आपके द्वारा वाहन चलाने से कंफ्यूज हो जाता है और इस तरह से दुर्घटना हो जाती है। इससे बचने के लिए आपको हमेशा सही दिशा में वाहन चलाना चाहिए।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखा यह आर्टिकल Sadak suraksha aur yatayat ke niyam par nibandh आप अपने दोस्तों में शेयर करें और हमें सब्सक्राइब करें धन्यवाद।

Wednesday 14 February 2024

हमारा मध्यप्रदेश निबंध इन हिंदी Hamara madhya pradesh nibandh

Hamara madhya pradesh nibandh

दोस्तों नमस्कार, आज हम आपके लिए लाए हैं मध्य प्रदेश पर निबंध तो चलिए पढ़ते हैं आज के हमारे लेख को

Hamara madhya pradesh nibandh

प्रस्तावना- भारत का एक राज्य मध्य प्रदेश है। मध्य प्रदेश भारत देश के बीच में स्थित है। इसका सबसे बड़ा शहर इंदौर है और मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल है। मध्य प्रदेश भारत के सबसे बेहतरीन राज्यों में से एक है।

मध्य प्रदेश के बारे में- हमारा मध्य प्रदेश मध्य प्रदेश में कुल 51 जिले हैं जिनमें से इंदौर, गुना, अनूपपुर, उमरिया, छतरपुर, शाहजहांपुर, शिवपुरी, नीमच, मुरैना, भोपाल, सिडनी, सीहोर, टीकमगढ़, दतिया, झाबुआ, जबलपुर, छिंदवाड़ा, उज्जैन, खंडवा, खरगोन जैसे कई जिले हैं। 

मध्य प्रदेश के इंदौर के पास स्थित उज्जैन महाकालेश्वर की नगरी है जहां पर भगवान शिव का ज्योतिर्लिंग विराजमान है। 2011 की जनगणना के अनुसार मध्य प्रदेश की कुल जनसंख्या 7 करोड़ 25 लाख 97565 है जिसमें से पुरुषों की आबादी महिलाओं की आबादी से थोड़ी अधिक थी। 

मध्य प्रदेश का नाम मध्य प्रदेश जवाहरलाल नेहरू ने रखा था। पहले मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ एक ही हुआ करता था लेकिन 1 नवंबर 2000 में मध्य प्रदेश से एक हिस्सा अलग होकर छत्तीसगढ़ की स्थापना हुई। भारत का मध्य प्रदेश पांच राज्यों की सीमा के आसपास है। 

मध्य प्रदेश की सीमायें उत्तर में उत्तर प्रदेश, पश्चिम में गुजरात, पूर्व में छत्तीसगढ़, दक्षिण में महाराष्ट्र और उत्तर पश्चिम में राजस्थान से सीमाएं लगी हुई है। मध्य प्रदेश में सभी तरह के धर्म, जाति, संस्कृति के लोग निवास करते हैं।

मध्य प्रदेश का ग्वालियर काफी प्रसिद्ध है यह एक ऐतिहासिक शहर है जिसमें कई ऐतिहासिक इमारतें, पहाड़ियां, हरे भरे जंगल और पहाड़ियों के बीच में बसा शहर वास्तव में काफी सुंदर है इसे एक बार देखने के लिए जरूर जाना चाहिए।

उपसंहार- वास्तव में मध्य प्रदेश भारत का एक बहुत ही बेहतरीन राज्य है जो भारत के बीच में बसा हुआ है। हर किसी को मध्य प्रदेश में भ्रमण करने के लिए जरूर आना चाहिए क्योंकि मध्य प्रदेश में कई ऐसे मंदिर एवं देखने योग्य स्थान है जो अतुलनीय है। मेरे द्वारा लिखा यह आर्टिकल आप अपने दोस्तों में शेयर करें और हमें सब्सक्राइब करें धन्यवाद।

Tuesday 13 February 2024

पर्वतीय स्थल पर निबंध Parvatiya sthal par nibandh

Parvatiya sthal par nibandh

दोस्तों नमस्कार, आज हम आपके लिए लाए हैं पर्वतीय स्थल पर निबंध आप इसे जरूर पढ़ें और पर्वतीय स्थल के बारे में जानकारी लें तो चलिए पढ़ते हैं आज के हमारे इस आर्टिकल को

Parvatiya sthal par nibandh

प्रस्तावना- पर्वतीय स्थल पर भ्रमण करना एक अलग अनुभव होता है। पर्वतीय स्थल की यात्रा करने से हमें प्रकृति के कई ऐसे दृश्य देखने को मिलते हैं जो हम आज के समय में नहीं देख पाते हैं। हर किसी को ग्रीष्मावकास में पर्वतीय स्थल की यात्रा जरूर करना चाहिए।

पर्वतीय स्थल के बारे में- पर्वतीय स्थल पर घूमने जाने के बारे में सोचना भी हर किसी के मन को खुश कर देता है क्योंकि आज के समय में हम देखते हैं कि शहरीकरण के इस दौर में ना तो हमें चारों ओर पेड़ पौधे देखने को मिलते हैं और ना ही कल कल बहती नदिया देखने को मिलती है और ना ही पर्वतों की विशाल श्रृंखलाएं हमें देखने को मिलती हैं

क्योंकि शहरीकरण के दौर में आज पेड़ पौधों की कटाई हो गई है और पर्वतों की जगह बड़ी-बड़ी बिल्डिंग शहरों में बन चुकी है और लोग अपने चारों ओर सिर्फ यही देखते हैं लेकिन जब भी हम पर्वतों की यात्रा करने जाते हैं तो हमें प्रकृति के सही मायने में दर्शन होते हैं। 

पर्वतीय स्थल पर भ्रमण करते हुए हम देखते हैं कि चारों ओर कई तरह के पेड़ पौधे हैं जो आज के समय में हम नहीं देखते। इन पेड़ पौधों में देवदार के घने हरे भरे जंगल और चीड़ के पेड़ देखकर काफी अच्छा महसूस होता है। 

पर्वतीय स्थल पर हम देखते हैं की कई जगह पर कल कल बहती नदियां देखने को मिलती है जहां पर कई जीव जंतु, पक्षी अपनी मनमोहक आवाज से चारों ओर एक मधुर संगीत गा रहे होते हैं, रंग बिरंगी फूल हमें चारों ओर देखने को मिलते हैं जिन्हें देखकर हमारा मन वहीं पर बस जाने का करता है। 

रंग-बिरंगे फूलों की क्यारियां चारों ओर देखकर मन प्रसन्न हो जाता है। ऊंची ऊंची पहाड़ों की चोटियां बर्फ से धकी होती हैं। पहाड़ों की ऊंची ऊंची चोटियों, पर्वतीय स्थल की ऊंची ऊंची पहाड़ियां, टेढ़ा-मेढ़ा रास्ता हमें एक अलग ही अनुभव कराता है। हरे-भरे खेत, कई तरह के फलों के बगीचे हमें काफी प्रसन्नता दिलाते हैं।

पर्वतीय स्थल का ऐसा बेहतरीन अनुभव पाने के लिए हमें समय-समय पर पर्वतीय स्थलों की यात्रा जरूर करनी चाहिए। हिमाचल प्रदेश पर्वतीय स्थलों में प्रमुख है, कई लोग अपनी छुट्टियों के दिनों में हिमाचल प्रदेश की यात्रा करने के लिए जाते हैं, हिमाचल प्रदेश का शिमला इसके लिए प्रसिद्ध है।

दोस्तों मेरे द्वारा लिखा ये आर्टिकल Parvatiya sthal par nibandh आप अपने दोस्तों में शेयर करें और हमें सब्सक्राइब करें धन्यवाद।

Thursday 25 January 2024

विज्ञापन का योगदान हिंदी निबंध Vigyapan ka yogdan nibandh

विज्ञापन का योगदान हिंदी निबंध 

दोस्तों नमस्कार, आज हम आपके लिए लाए हैं विज्ञापन का योगदान पर हमारे द्वारा लिखित यह निबंध, आप इसे जरूर पढ़ें तो चलिए पढ़ते हैं आज के हमारे इस निबंध को 

विज्ञापन का योगदान हिंदी निबंध

प्रस्तावना- विज्ञापन का योगदान हमारे जीवन में काफी महत्वपूर्ण है।आज के समय में विज्ञापन लोगों को जागरूक करने के लिए और आर्थिक उन्नति करने के लिए भी काफी महत्वपूर्ण है। 

विज्ञापन का योगदान- आज से कुछ समय पहले भले ही विज्ञापनों का ज्यादा योगदान ना हो लेकिन आज के इस आधुनिक युग में तेजी से बढ़नी जनसंख्या के इस भारत देश में विज्ञापन का काफी योगदान है। विज्ञापन की वजह से ही हम कई ऐसी चीजों के बारे में जान पाते हैं जिनका हमारे जीवन में काफी योगदान होता है, जिनसे हमें वास्तव में फायदा होता है जिससे हमारा जीवन सरल एवं सुलभ होता है।

विज्ञापन लोगों को जागरुक भी करता है आज के समय में हम देखते हैं कई ऐसी जरूरी चीज मार्केट में है जिनका उपयोग करना हम सभी को जरूरी है लेकिन जागरूकता की कमी के वजह से यदि हम उनका उपयोग नहीं करते तो आने वाले समय में कई बीमारियां से हम ग्रसित हो जाते हैं या कई तरह का नुकसान हमें झेलना पड़ता है। 

विज्ञापनों की वजह से हमें इनके बारे में जानकारी मिलती है और हम इनका उपयोग करते हैं। वास्तव में विज्ञापन एक तरह से आज के युग में वरदान है वहीं दूसरी ओर देखें तो किसी भी व्यापार को उन्नति की राह पर ले जाने के लिए विज्ञापन काफी ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 

आज मार्केट में एक ही तरह के प्रोडक्ट की विभिन्न कंपनियां हैं और अपने व्यापार को तेजी से चलने के लिए विज्ञापन एक प्रमुख साधन है, विज्ञापन का सबसे ज्यादा योगदान है। 

यदि कोई कंपनी विज्ञापन को महत्व देते हुए विज्ञापन पर पैसे खर्च करती है तो उसका व्यापार काफी तेजी से आगे बढ़ता है और देश आर्थिक रूप से मजबूत होता है वास्तव में विज्ञापन हम सभी के लिए काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, हमारे जीवन में विज्ञापनों का काफी ज्यादा योगदान है।

उपसंहार- जीवन में विज्ञापनों का योगदान है। हमें कई जरूरत की चीजों के बारे में विज्ञापनों के जरिए पता चलता है जो काफी फायदेमंद भी होती हैं। हम अपने जीवन को सुलभ बनाकर जीवन में आगे बढ़ते जाते हैं। विज्ञापन आज के युग में वरदान जैसा है। दोस्तों हमारे द्वारा लिखित यह आर्टिकल आप अपने दोस्तों में शेयर करें और हमें सब्सक्राइब करें धन्यवाद।

Saturday 13 January 2024

शिक्षा और रोजगार पर निबंध Essay on education and employment in hindi

शिक्षा और रोजगार पर निबंध

प्रस्तावना- कई लोग मानते हैं कि शिक्षा और रोजगार का आपस में कोई भी संबंध नहीं है लेकिन वास्तव में देखा जाए तो शिक्षा और रोजगार का आपस में बहुत ही गहरा संबंध होता है। शिक्षा प्राप्त करके ही कोई व्यक्ति एक अच्छा रोजगार पा सकता है।

शिक्षा और रोजगार का संबंध- आज के समय में जैसे कि हम जानते हैं कि कई सारे लोग ऐसे होते हैं जो शिक्षा प्राप्त करते हैं लेकिन कई वजह से वह शिक्षा प्राप्त करके भी रोजगार नहीं पाते हैं और लंबे समय तक बेरोजगार रहते हैं जिस वजह से वह सोचते हैं कि शायद अच्छा रोजगार शिक्षा प्राप्त करके जरूरी नहीं कि मिल जाए। 

वास्तव में हम देखें तो शिक्षा एक इंसान को इंसान बनाती है। शिक्षा का उद्देश्य एक इंसान को एक अच्छा इंसान बनाना तो है ही साथ में हमें हिंदी, अंग्रेजी, विज्ञान, इतिहास, गणित आदि का ज्ञान कराना भी है। 

यदि हम किसी भी क्षेत्र में कार्य करते हैं तो उस क्षेत्र में यह सभी विषय हमारी काफी ज्यादा मदद करते हैं। यदि हम इन विषयों में कमजोर होते हैं तो वास्तव में आप किसी भी व्यापार या नौकरी में सफल नहीं हो पाएंगे इसलिए हम कह सकते हैं कि शिक्षा का रोजगार में काफी ज्यादा महत्वपूर्ण योगदान होता है। 

यदि आप अच्छी तरह से शिक्षा प्राप्त करते हैं तो आप एक अच्छी नौकरी भी पा सकते हैं और अपना एक बड़ा बहुत अच्छा बिजनेस भी कर सकते हैं।

अगर आप सही तरह से शिक्षा प्राप्त करते हो और शिक्षा के महत्व को समझकर जमाने के अनुसार अपने विषय का चयन करके अच्छी तैयारी करते हो तो वास्तव में यह कहना बिल्कुल ठीक है कि आप शिक्षा के जरिए एक बहुत अच्छा रोजगार यानी कोई अच्छी सी जॉब या अच्छा सा बिजनेस कर सकते हैं और अपने परिवार का नाम रोशन कर सकते हैं वास्तव में शिक्षा और रोजगार का काफी गहरा संबंध है।

उपसंहार- जैसे कि हमने जाना कि शिक्षा और रोजगार का काफी गहरा संबंध है। हम अच्छी शिक्षा प्राप्त करके अच्छा रोजगार पा सकते हैं और आगे बढ़ सकते हैं इसलिए शिक्षा के महत्व को समझें और जीवन में आगे बढ़े।

दोस्तों हमारे द्वारा लिखा यह आर्टिकल शिक्षा और रोजगार पर निबंध आप अपने दोस्तों में शेयर करें धन्यवाद।

Tuesday 2 January 2024

यदि मुझे परी मिल जाए तो निबंध yadi mujhe pari mil jaaye to hindi nibandh

yadi mujhe pari mil jaaye to hindi nibandh

दोस्तों नमस्कार, आज के हमारे इस आर्टिकल में हम आपके लिए लेकर आए हैं यदि मुझे परी मिल जाए तो पर हमारे द्वारा लिखा गया यह निबंध. हमारे द्वारा लिखा गया यह निबंध आप जरूर पढ़े हैं तो चलीये पढ़ते हैं हमारे आज के इस निबंध को 

yadi mujhe pari mil jaaye to hindi nibandh

यदि मुझे परी मिल जाए तो कितना अच्छा हो मैं उस परी के साथ आसमान में सफर कर लूंगा. मुझे उसके साथ आसमान में घूरना बहुत ही अच्छा लगेगा. परी मुझे अपने साथ परिस्तान में ले जाएगी जहां पर और भी खूबसूरत परियां होगी. उन्हें देखकर मुझे काफी खुशी होगी. 

यदि मुझे परी मिल जाए तो मैं बहुत से कार्य को संभव कर सकता हूं. जैसे कि हम टीवी सीरियलों में देखते हैं कि परियों में कई तरह की जादुई शक्ति होती है वह कई कार्यों को करती हैं. यदि मुझे परी मिलेगी तो मैं भी अपने रुके हुए कार्यों को उस परी के जादू के जरिए कर सकता हूं. 

मैं यदि मनुष्य की इस दुनिया में वापस आऊंगा तो मनुष्य की इस दुनिया में मैं अपार धन-संपत्ति आदि कमा लूंगा क्योंकि मेरे पास परियों की जादुई शक्ति भी होगी. यदि मुझे परी मिल जाए तो मुझे बहुत ही अच्छा लगेगा.

यदि मुझे परी मिल जाए तो मैं अपने एवं अपने परिवार के लिए अपने दोस्त, यार एवं रिश्तेदारों को धन-संपत्ति बाँटना चाहूंगा. परी से मैं चाहूंगा कि जीवन में मुझे या मेरे प्रिय जनों को किसी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े, हम हमेशा स्वस्थ रहें. 

यदि मुझे परी मिल जाए तो मैं परी के जरिए एक बहुत ही अच्छा अपने लिए महल बनवाना चाहूंगा जिसमें उस परी के साथ रहना चाहूंगा, परी के साथ में इस पूरी दुनिया का भ्रमण करना चाहूंगा. मैं चंद्रमा, मंगल ग्रह आदि की यात्रा भी करना चाहूंगा.

वास्तव में परी मिल जाए तो मैं इस दुनिया में कई ऐसे स्थानों को घूमना चाहूंगा जिन स्थानों पर घूमने के सपने हर कोई देखता है.

वास्तव में यदि मुझे परी मिल जाए तो में अपने कई सारे सपनों को साकार करना चाहूंगा.

दोस्तों हमारे इस आर्टिकल yadi mujhe pari mil jaaye to hindi nibandh को शेयर करें एवं सब्सक्राइब भी करें.