Monday, 25 January 2021

रेलवे स्टेशन पर दो घंटे पर निबंध Railway station par do ghante essay in hindi

 Railway station par do ghante essay in hindi

रेलवे स्टेशन पर ज्यादातर लोग कभी ना कभी जरूरी जाते हैं क्योंकि  एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए रेल एक प्रमुख साधन है । रेल में सफर करना बहुत से लोगों को काफी पसंद भी आता है लेकिन मैं रेल से सफर बहुत ही कम करता था । 


मैं ज्यादातर सफर बस के द्वारा करता था लेकिन जब मैंने  रेल में सफर किया तब उस समय मैंने रेलवे स्टेशन पर 2 घंटे रेल की प्रतीक्षा के लिए बिताए थे । वह 2 घंटे मुझे अच्छी तरह से याद है । मैंने उन 2 घंटों में बहुत कुछ देखा । मैंने देखा कि रेलवे स्टेशन पर बहुत सारे लोग हैं जो कि मेरी तरह ही रेल की प्रतीक्षा कर रहे हैं । रेलवे स्टेशन पर तरह-तरह की खाने की चीजों की दुकान भी सजी हुई थी । 

कुछ लोग समोसा खा रहे हैं तो कुछ लोग चाय पी रहे थे , कुछ लोग सुबह का अखबार पढ़ रहे थे तो कुछ लोग रेलवे स्टेशन पर नीचे ही विश्राम कर रहे थे तो कुछ लोग टेबल कुर्सियों पर बैठे एक दूसरों से बातें कर रहे थे । यह दृश्य मेरा पहली बार ही था क्योंकि मैंने इससे पहले रेलवे स्टेशन का दृश्य नहीं देखा था । मैंने रेलवे स्टेशन पर कुछ लोगों से पूछा भी की मेरी ट्रेन कब आएगी लेकिन सभी ने इंतजार करने का बोला । 

मुझे रेलवे स्टेशन पर रुकना अच्छा नहीं लग रहा था क्योंकि मैं अकेला था लेकिन तभी मैंने देखा कि रेलवे स्टेशन कि कुछ कुर्सियों पर कुछ बुजुर्ग लोग बैठे हुए हैं जो किसी ट्रेन का इंतजार कर रहे हैं । मुझे भी वहां पर बैठने के लिए थोड़ी सी जगह मिल गई और मैं वहां पर बैठ गया था । मैंने उन बुजुर्ग लोगों की कई तरह की बातें सुनी जो मुझे बहुत ही अच्छी लगी । 

रेलवे स्टेशन पर बैठे हुए लोगों की बातें सुनकर और रेलवे स्टेशन की तरह तरह के दृश्यों को देखते हुए मेरा समय 2 घंटे का कब निकल गया मुझे पता ही नहीं चला । वास्तव में मुझे रेलवे स्टेशन से जाने के बाद एहसास हुआ कि रेलवे स्टेशन पर मेरे 2 घंटे काफी अच्छी तरह से व्यतीत हुए और यह 2 घंटे मुझे जीवन भर याद आएंगे । 

दोस्तों मेरे द्वारा लिखा यह Railway station par do ghante essay in hindi आर्टिकल आप अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें और हमें सब्सक्राइब भी करें और हमें बताएं कि यह आर्टिकल आपको कितना पसंद आया ।

3 comments: